क्या आप शादी के बंधन में बंधने के लिए तैयार हैं। तो शादी से पहले एक बार काउंसलिंग के लिए जरूर जाएं। अगर आपको लगता है कि आपको इसकी जरुरत नहीं है तो एक बार इसके फायदों के बारे में जान लें-

1. शादी करने की वजह

जब काउंसलर आपसे पूछता है कि आप शादी क्यों करना चाहते हैं तो उसे ये जवाब देना कि हम एक दूसरे से प्यार करते हैं, काफी नहीं है। क्या आप अच्छे दोस्त हैं, क्या आप एक दूसरे का सम्मान करते हैं, क्या आप एक दूसरे पर भरोसा करते हैं, क्या एक इमोशनली, सेक्शुअली, फ़ाइनैंशली एक दूसरे के योग्य हैं। क्या अपने रिश्ते को लेकर आपका लक्ष्य एक जैसा है। इन सवालों के जवाब से आप जान पाएंगे कि क्या सच में आप शादी के लिए तैयार हैं या नहीं।

2. व्यवहारिक सोच

शादी का मतलब है कि दूसरे इंसान के साथ अपनी जिंदगी को बनाना। काउंसलर, कपल्स की मदद करते हैं ताकि वे वर्तमान के साथ ही अपने भविष्य के बारे में भी सोच सकें। क्या आप दोनों को बच्चे पसंद है? अपने फ्यूचर सास-ससुर के साथ आपका रिश्ता कैसा है? आप दोनों में से ज्यादा पैसा कौन कमाता है? इस तरह की बातें भी शादी से पहले एक दूसरे के बारे में जानना बहुत जरूरी है क्योंकि एक सफल शादीशुदा रिश्ते के लिए सिर्फ प्यार नहीं प्रैक्टिकल सोच की जरूरत होती है।

3. गंभीर बातों की चर्चा

काउंसलर, कपल्स से सिर्फ पॉजिटिव बातें ही नहीं करते बल्कि वह ऐसे मुद्दों को भी उठाता है जिसके बारे में लोग बात नहीं करना चाहते या जिससे उन्हें परेशानी होती है। आप पर किसी का कोई उधार तो नहीं है, धर्म को लेकर आपकी सोच कैसी है, आपकी बुरी आदतें, जीवन में हुई कुछ बुरी घटनाएं, सबसे बड़ा डर, इस तरह की बातों से एक कपल, शादी से पहले ही जान लेता है कि दूसरा शख्स कैसा है।

4. शादी की शिक्षा

काउंसलिंग के दौरान आपको शादीशुदा जीवन में आने वाली सामान्य कठिनाईयों और उनसे बचने के उपाय के बारे में भी बताया जाता है। साथ ही शादी के फायदे और अपनी शादी को कैसे सफल बनाएं इसके बारे में भी जानकारी मिलती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *