नॉर्मली हमारे घर में कई तरह के कीड़े-मकोड़े घूमते रहते हैं। खासकर मकड़ी, चीटियां, झींगुर, छिपकली ऐसे जीव हैं, जिनसे हर दिन हमारा सामना होता है। हालांकि, ये ऐसे कीड़े-मकोड़े हैं, जो हमें और हमारी बॉडी को किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाते। लेकिन आज हम आपको जिस कीड़े के बारे में बताने जा रहे हैं, उसे टच करना भी घातक साबित हो सकता है।
जानिए इस कीड़े के बारे में…
घर के अंदर आपको दिखे यह कीड़ा, तो इमरजेंसी हेल्पलाइन को करें सूचित!
.
– हाल ही में एक खबर काफी तेजी से वायरल हुई है, जिसमें कहा गया है यूएस के साउथ फ्लोरिडा में एक ऐसा कीड़ा मिला है, जो इंसान के लिए काफी खतरनाक है।
– इस कीड़े का नाम है ‘न्यू गुनिया फ्लैटवॉर्म’। इसकी गिनती दुनिया के 100 सबसे खतरनाक जीव में की जा रही है।
– बताया जा रहा है कि यह कीड़ा न केवल इंसान की शरीर को हानि पहुंचा सकता है, बल्कि पेड़-पौधे को भी बर्बाद कर सकता है।
– कुछ वेबसाइट का कहना है कि इस कीड़े की खोज पिछले साल मई 2016 में हुई थी, जबकि कुछ का कहना है कि इसकी खोज सितंबर 2015 में हुई है।
– हालांकि, यह कीड़ा ज्यादातर सनसाइन स्टेट में पाया जाता है। हाल ही में ऐसा कीड़ा फ्लोरिडा के मियामी में देखा गया है।
– बताया जाता है कि एक शख्स जब अपने बगीचे में गया तो उसे गमले के अंदर इस तरह के कुछ कीड़े दिखे।
– शोधकर्ताओं का कहना है कि डायरेक्टली इस कीड़ा को टच करना इंसान के लिए घातक है, क्योंकि इसका इन्फेक्शन काफी तेजी से फैलता है।
– इतना ही नहीं न्यू गुनिया फ्लैटवॉर्म की उल्टी भी इंसान के लिए खतरनाक है। दरअसल, उसका विष मानव शरीर को खराब कर सकता है। इसलिए लोगों को हिदायत
दी जा रही है कि जब भी इस तरह का आपको कीड़ा दिखे तो डायरेक्टली टच नहीं करे और सीधे इमरजेंसी हेल्पलाइन को सूचित करें।
– हालांकि, सच और झूठ की जांच करने वाली वेबसाइट Snopes.com की माने तो ये कीड़ा उतना खतरनाक भी नहीं है, जितना उसके बारे में बताया जा रहा है।
– वेबसाइट के मुताबिक, जिस तरह लोगों से अपील की जा रही है कि इस कीड़े को देखते ही इमरजेंसी नंबर पर कॉल करे, ऐसा कुछ भी नहीं है।
– वेबसाइट का कहना है कि साल 2012 में फ्लोरिडा में पहली बार इस कीड़े को देखा गया, लेकिन जिस तरह से उसके बारे में बताया जा रहा है, वो सच नहीं है।
घर के अंदर आपको दिखे यह कीड़ा, तो इमरजेंसी हेल्पलाइन को करें सूचित!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *