पिछले कई सालों से इंडियन-अमेरिकन कम्युनिटी स्कूली किताबों में हिंदू धर्म के बारे में बताई गई गलत और झूठी बातों को हटाने पर जोर दे रही है।

 वॉशिंगटन. कैलिफोर्निया में स्कूलों में प्रपोज्ड किताबों में हिंदू धर्म और भारत की नेगेटिव इमेज दिखाई गई है। इस पर भारतीय अमेरिकियों ने नाराजगी जताई है। हिंदू एजुकेशन फाउंडेशन यूएसए (HEF) के डायरेक्टर शन्थरम नेक्कार ने कहा, “कम्युनिटी की तरफ से 10 साल तक अवेयरनेस प्रोग्राम चलाने के बाद भी ऐसा होना बेहद निराशाजनक है।” गलत और झूठी बातें हटाई जाएं…
– न्यूज एजेंसी के मुताबिक शन्थरम ने कहा, “खासकर हॉटॉन मिफलिन हारकोर्ट (HMH), मैकग्रॉ-हिल, डिस्कवरी और नेशनल जियोग्राफिक लगातार भारतीय सभ्यता को गलत तरीके से पेश कर रहे हैं।” शन्थरम ने यह बयान गुरुवार को सैक्रामेंटो में कैलिफोर्निया डिपार्टमेंट ऑफ एजुकेशन की जन सुनवाई में दिया।
– इंडियन-अमेरिकन कम्युनिटी पिछले कई सालों से स्कूली किताबों में हिंदू धर्म के बारे में बताई गई कई गलत और झूठी बातों को हटाने पर जोर दे रही है। जबकि कैलिफोर्निया सरकार का यह आदेश है कि किताबों को एजुकेशन डिपार्टमेंट की तरफ से तय ढांचे पर बेस्ड होना चाहिए।
विवादों के बाद कोर्स में हुआ था सुधार
– इस मामले में कई विवादों के बाद पिछले साल कोर्स के फ्रेमवर्क को रिवाइज्ड (संशोधित) किया था। इस काम को कुछ एकेडेमिक्स ने अंजाम दिया था। किताबों में भारत की जगह साउथ एशिया से जुड़े स्टडी मटीरियल को शामिल किया गया था।
बदनामी करने में जुटे हैं कुछ पब्लिशर्स
– पिछले 2 साल के दौरान डिपार्टमेंट ने स्कॉलर्स, स्टूडेंट्स और कम्युनिटी मेंबर्स की सलाह पर इस फ्रेमवर्क में कई सुधार किए हैं और योग, धर्म, ऋषि व्यास और वाल्मीकि समेत साइंस और टेक्नोलॉजी की फील्ड में भारत की कामयाबियों को कोर्स में शामिल किया है।
– हालांकि, हिंदू ग्रुप्स का कहना है कि इनमें से कई बदलाव किताबों में दिखाई नहीं दे रहे रहे हैं। सेन जोस में रहने वाले शरत जोशी कहते हैं, “कुछ पब्लिशर्स इन बदलावों को नजरअंदाज कर हिंदू धर्म को बदनाम करने में जुटे हैं। जबकि इन सुधारों से बाकी सिविलाइजेशन्स और कल्चर्स की तरह ही इंडियन सिविलाइजेशन (भारतीय सभ्यता) को भी समझने में मदद मिलेगी। हिंदू धर्म की नेगेटिव इमेज से क्लासरूम में भारतीय बच्चों को कई दिक्कतों का भी सामना करना पड़ता है।”
– बहरहाल, डिपार्टमेंट ऑफ एजुकेशन अपनी सिफारिशों को मंजूरी के लिए स्टेट बोर्ड ऑफ एजुकेशन के पास इसी साल बाद में भेजेगा। बोर्ड द्वारा रिकमेंड किताबें स्कूलों में अगले साल से पढ़ाए जाने के आसार हैं।
US चैनल के शो का हुआ था विरोध
– अमेरिकी न्यूज चैनल CNN ने इसी साल मार्च में अपने ‘बिलीवर विद रेजा असलान’ शो में अघोरियों की सच्चाई और उनसे जुड़े मिथकों के बारे में बताया था। इस शो का अमेरिकी हिंदुओं ने विरोध किया था। उनका कहना था कि ये शो हिंदू धर्म पर हमला है और नेगेटिव इमेज पेश करने वाला है। इंडो-अमेरिकन हिंदू ऑर्गनाइजेशन्स ने कहा था कि नेगेटिव इमेज पेश किए जाने से यूएस में भारतीयों पर होने वाले हमले बढ़ सकते हैं।

Hinduism and India negative portrayal in US school textbooks, national news in hindi, national newsहिंदू ग्रुप्स का कहना है कि कुछ पब्लिशर्स बदलावों को नजरअंदाज कर हिंदू धर्म की बदनामी कर रहे हैं। (फाइल)

CNN show protest, national news in hindi, national news

CNN ने मार्च की शुरुआत में अघोरियों पर शो दिखाया था, अमेरिकी हिंदुओं ने उस पर विरोध जताया था। (फाइल)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *